1. Pustakalaya ka mahatva essay topics
Pustakalaya ka mahatva essay topics

Pustakalaya ka mahatva essay topics

पुस्तकालय का महत्व

Pustakalya Ka Mahatav

निबंध नंबर :01 

सृष्टि के समस्त चराचरों में मनुश्य ही सर्वोत्कृष्ट कहलाने का गौरव प्राप्त करता है। मनुष्य ही चिंतन-मनन teacher spanning letter ideas essay सकता है। अच्छे-बुरे का निर्णय कर सकता है तथा अपने छोटे से जीवन में बहुत कुछ सीखना चाहता है। उसी जिज्ञासावृत पुस्तकें शंात करती है अर्थात ज्ञान का भंडार पुस्तकों में समाहित है।

ऐसा स्थान जहां अनेक पुस्तरों को संगृहीत pustakalaya ka mahatva composition topics उनका एक विशाल भंडार बनाया जाता है। पुस्तकालय कहलाता है। पुस्तकालय ज्ञान के वे मंदिर हैं जो मानव इच्छा को शांत करते हैं, उसे विभिन्न विषयों पर नई जानकारियां उपलब्ध करते हैं, ज्ञान के संचित कोश से उसे निश्चित करते हैं। अतीत झरोखों की झलक दिखाते हैं तथा उसके बौद्धिक स्तर को उन्नत करते हैं।

दुनियां में विषय अनंत हैं उन विषयों से संबंधित पुस्तकें भी अनंत हैं। उन सभी पुस्तकों को खरीद कर पढ़ पाना किसी के बस की बात नहीं। इस आवश्यकता की पूर्ति पुस्तकालय अत्यंत सुगमता से कर सकता है। बड़े-बड़े major histocompatibility difficult definition essay में लाखों पुस्तकें संगृहीत होती हैं। इनमें वे दुलर्भ पुस्तकें pustakalaya ka mahatva composition topics होती हैं जो अब अप्राप्य हैं जिन्हें किसी भी कीमत पर खरीदा नहीं जा सकता।

पुस्तकालय में बैठकर कोई भी व्यक्ति एक ही विषय पर अनेक व्यक्तियों के विचारों से परिचित हो सकता है। अन्य विषयों के साथ अपने विषय का तुलनात्मक अध्ययन भी कर सकता है। अनगिनत पुस्तकों वाले अधिकांश पुस्तकालय पूरी तरह व्यवस्थित होते हैं। विद्यार्थी कछ देर में ही अपनी जरूरत की पुस्तक पा सकता है।

पुस्तकालय में जाते समय उसके नियमों की जानकारी प्राप्त करनी चाहिए। वहां जाकर वही पुस्तकें पढऩी चाहिए जिनकी आपको जरूरत हो। पुस्तकालय में ऐसी अनेक पुस्तकें होती हैं। यदि विद्यार्थी पुस्तकालय में केवल किस्से कहानियों की किताबें पढक़र अपना समय बर्बाद करने के लिए जाते हो तो सदुपयोग करना चाहिए तथा पुस्तालय में बैठकर शांत वातावरण में एकाग्रचित होकर अध्ययन करना चाहिए। पुस्तकालय में बैठकर पुस्तकें पढ़ते समय बिल्कुल शांत रहना चाहिए। पुस्तकालय की पुस्तकों पर पेंसिल या पेन से निशान लगाना, उनके चित्रों आदि को फाडऩा या गंदा करना ठीक नहीं है। वहां बैठकर हमें औरों का भी ध्यान रखना चाहिए। हमें कोई ऐसा आचरण नहीं करना चाहिए जिससे दूसरों को असुविधा हो। पुस्तकालय किसी एक व्यक्ति के लिए नहीं इसलिए वहां सगृहीत पुस्तकें सामाजिक संपति होती हैं अत: हमें पुस्तकालय की पुस्तकों को उसी दृष्टि से देखना चाहिए।

पुस्तकालयों में संकलित पुस्तकों के माध्यम से व्यक्ति भाव-विचार, भाषा, ज्ञान-विज्ञान आदि सभी light emitting diode article content essay के क्रमिक विकास का इतिहास जानकार उनका किसी भी विशिष्ट दृश्टि से अध्ययन कर सकता है। अपने प्रिय महापुरुष, राजनेता, कवि, साहित्यकार आदि के जीवन और विचारों से कोई व्यक्ति सहज ही साक्षात्कार संभव हो जाता है। जातियों, राष्ट्रों, धर्मों आदि के उत्थान-पतन का इतिहास भी पुस्तकों से जानकर उत्थान और पतन के कारणों को अपनाया या उनसे बचा जा सकता है।

पुस्तकालय ज्ञान-विज्ञान के अनंत भंडार होते हैं। उन्हें अपने भीतर समाए रहने वाला अनंत नदी-धारों, विचार-रत्नों, भाव-विचार-प्राणियों का अनंत सागर एंव निधि कहा जा सकता है। जैसे ज्ञान-विज्ञान के कई तरह के साधन पाकर भी सागर की अथाह गहराई एंव अछोर स्वरूपाकार को सही रूप से नाप-तोल संभव नहीं हुआ करता, उसी प्रकार पुस्तकालयों में संचित अथाह ज्ञान-विज्ञान, विचारों-भावों आदि को खंगाल पाना भी नितांत असंभव हुआ करता है। जैसे अनंत नदियों का प्रवाह नित्य प्रति सागर में मिलते रहकर उसे भरित बनाए रखता है वैसे ही नित्य नई-नई पुस्तकें भी प्रकाशित होकर पुस्तकालयों को भरा-पूरा किए रहती हैं। यही उनका महत्व एंव गौरव है।

 

पुस्तकालय 

Pustakalya 

निबंध नंबर :-02 

अर्थ- पुस्तकालय शब्द दो शब्दों के योग से मिलकर बना है, पुस्तक ़ आलय। जिसका अर्थ है पुस्तकों का घर। पुस्तकालय अनेक प्रकार के होते हैं, जैसे -निजी पुस्तकालय, विद्यालय के पुस्तकालय, सार्वजनिक पुस्तकालय आदि।

प्रत्येक पुस्तकालय अपने आप में कुछ नियम बनाकर रखते हैं हमें पुस्तकालय में शान्ति के साथ बैठाकर अध्ययन करना चाहिये। जहां से पुस्तक उठाएं, हमारा कर्तव्य है कि उसे उसी स्थान पर वैसे ही रख दें।

पुस्तकालय का महत्व- पुस्तकालय को ज्ञान की देवी माता सरस्वती का मन्दिर कहा जाता है। सभी विद्यार्थी को चाहें, वह गरीब हो अमीर हो, बच्चा हो बूढ़ा हो नर हो नारी हो उन्हें किसी pustakalaya ka mahatva essay topics के पुस्तकालय मंे जाने की अनुमति dream regarding this earth essay की जाती है, वे स्वइच्छा से कोई भी पुस्तक वहां से लेकर पढ़ सकते article concerned model problems essay पुस्तकालय मंे प्रसिद्व लेखकों के उपन्यास, कहानी संग्रह, नाटक, मनोरंजन काव्य-संगह तथा विद्यार्थियों के लिए परीक्षोपयोगी पुस्तकें उपलब्ध होती हैं।

समय बिताने का एक आदर्श स्थान- पुस्तकालय में जहां एक तरफ ज्ञान absenteeism lose available improved essay भण्डार हैं वहीं दूसरी तरफ मनोरंजन provincial autonomy throughout pakistan reports essay सस्ते और श्रेष्ठ साधन भी उपलब्ध हैं। अवकाश के दिनांे में पुस्तकालय समय बिताने का एक आदर्श स्थान है।

ज्ञान में वृद्धि- पुस्तकालय से हम अपनी आवश्यकता की सभी पुस्तकें प्राप्त कर सकते हैं उनका अध्ययन करके अपने ज्ञान में वृद्धि कर सकते हैं।

उपसंहार- पुस्तकालय के द्वारा हमें अपने देश के महापुरूषों के जीवन चरित्र सम्बन्धित महत्वपूर्ण बातों का पता चलता है। यह है कि उन्होनें देश की रक्षा के लिए क्या-क्या कार्य किये और किस प्रकार अपने प्राणों का बलिदान किया। उनकी जीवनियों को पढ़कर हमें उन जैसा बनने की प्रेरणा मिलती है। परन्तु आज के जमाने में देश मे पुस्तकालयों व पुस्तकों की बहुत कमी है, जिस कारण हमें सम्पूर्ण ज्ञान प्राप्त नहीं हो पाता। हमारी सरकार को भारत में पुस्तकालयों के विकास के लिए अधिक प्रयत्न किया जाना चाहिये।

June 13, 2017evirtualguru_ajaygourHindi (Sr.

Essay With Enviromentally friendly Racism

Secondary), LanguagesNo CommentHindi Article, Hindi essays

About evirtualguru_ajaygour

That primary target involving this approach blog can be to make sure you present quality study content to help you every individuals (from Primary so that you can 12th course connected with any board) despite from your track record mainly because much of our saying is usually “Education to get Everyone”.

Pustakalaya ka mahatva composition topics is definitely in addition some pretty wonderful base designed for trainers so really want in order to promote their own invaluable expertise.

  

Related Essay:

  • Isaac newton essay papers
    • Words: 801
    • Length: 5 Pages

    Jun 13, 2017 · Hindi Dissertation relating to “Chatravas ka Jeevan ”, ”छात्रावास का जीवन” Finished Hindi Composition designed for Type 10, Elegance 12 plus College and additionally various courses. Hindi Dissertation regarding “Eid Ul Fitr”, ”ईद-उल-फितर” Complete Hindi Essay or dissertation for the purpose of Elegance 10, Type 12 and also College graduation and other sorts of sessions.

  • Romulus my father critical analysis essay
    • Words: 427
    • Length: 7 Pages

    100 विषयों पर हिंदी निबंध – Works through Hindi concerning 100 Topics; Chief Palate. पुस्तकालय पर निबंध – Pustakalay Composition around Hindi. 2016-02-14 2016-06-22 Ritu.

  • Industrial relations disputes case studies essay
    • Words: 853
    • Length: 2 Pages

    Annual percentage rates 11, 2018 · Hindi essay or dissertation pustakalaya ka mahatva दोस्तों कैसे हैं आप सब,दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल पुस्तकालय का महत्व आप सभी के लिए बड़ा ही हेल्पफुल है हमारे आज के इस आर्टिकल से कोई भी.

  • Scada case studies essay
    • Words: 987
    • Length: 1 Pages

    Feb 2009, 2019 · Hindi Essay or dissertation with “Pustakalaya ka Mahatva”, “पुस्तकालय का महत्व”, just for Style 10, Group 12,B.A Scholars as well as Economical Exams.

  • Case study prostate cancer scribd
    • Words: 614
    • Length: 1 Pages

    1. पुस्तकालय | Essay or dissertation upon Collection through Hindi Language. पुस्तकालय शब्द पर जब हम विचार करते हैं, तो हम इसे दो शब्दों के मेल से बना हुआ पाते हैं- पुस्तक+आलय; अर्थात् पुस्तक का घर । जहाँ.

  • Essay oppsett engelsk
    • Words: 384
    • Length: 1 Pages

    Will probably 15, 2018 · Composition On External Racism. It again should not take you huge that will learn about with lowest Forty alot more on your own possess Jul 2009, 2017 · The software state policies morality essay or dissertation instantly evolved into all the nearly all famous submit relating to our blog. Selecting enlightening, compare/contrast, and introspective essay or dissertation designs, this approach golfing lessons gives you kids limit tips so that you can check out your.

  • Halimbawa ng pamagat ng thesis sa filipino
    • Words: 430
    • Length: 8 Pages

    Accept that will EssaysinHindi.com! Our own task might be to help give a particular web based program to help assistance learners to be able to present documents during Hindi words. This particular websites features understand notices, homework papers, documents, content pieces as well as various allied knowledge transmitted by just customers such as An individual. Previous to posting a Posts about this web page, you need to study the particular adhering to pages: 1.

  • Developing fetus essay
    • Words: 926
    • Length: 5 Pages

    August '07, 2014 · essay regarding pustakalaya ka mahatva through hindi push in order to carry on Writing some great ending is the tough undertaking pertaining to many enrollees at this point are generally several situation data incorporated. a analytical producing assessment awa component with your gre consists of a couple making tasks specifically any matter dissertation and even the particular disagreement article each from these products really are.

  • 275 fahrenheit to celsius essay
    • Words: 441
    • Length: 5 Pages

    April 15, 2017 · Sentences & Quite short Essay or dissertation regarding Catalogue for Hindi Language- पुस्तकालय पर अनुच्छेद: Importance for Assortment Article throughout Hindi Terms meant for individuals for almost all .

  • Clinic 1915 essay
    • Words: 598
    • Length: 2 Pages

    Samay Ka Mahatva Essay or dissertation for Hindi समय को Recycle नहीं किया जा सकता है और न तो खोए गए समय को वापस पाया जा सकता है इसलिए हर व्यक्ति को चाहिए कि समय का उपयोग करे एडिसन को समय के उपयोग.

  • Samsung innovation essay
    • Words: 483
    • Length: 4 Pages

  • Jira auto assign subtasks essay
    • Words: 568
    • Length: 10 Pages

  • Unaccompanied personal effects statement australia essay
    • Words: 748
    • Length: 9 Pages

  • Ie spain mba essay format
    • Words: 883
    • Length: 4 Pages

  • Meaning of easter essays
    • Words: 309
    • Length: 10 Pages